हिंदुत्व के राह पर कांग्रेस, चुनावी अभियान में शिव भक्त बने राहुल गाँधी

भाजपा के बाद अब कांग्रेस भी धर्म की राजनीति पर उतरती दिखाई दे रही है, राजनैतिक गलियारों में चर्चा है कि कांग्रेस के रणनीतिकार के अनुसार देश में भाजपा सरकार के विकास के मार्ग पर फेलियर के बावजूद मोदी सरकार के ग्राफ के नीचे नहीं गिरने के पीछे भाजपा की धार्मिक राजनीती है और इसीलिए कांग्रेस अब भाजपा की रणनीति से ही उसे हराने के लिए कमर कस रही है।

शंखनाद, राहुल की शिव भक्ति के पोस्टर, कार्यकर्ताओं के हाथ में गणेश प्रतिमा इत्यादि के द्वारा सोमवार को राहुल के रोड शो से कांग्रेस ने साफ कर दिया कि वह गुजरात के बाद मध्य प्रदेश के चुनावी रण में भी सॉफ्ट हिंदुत्व के रास्ते पर चलेगी। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भोपाल में लालघाटी से दशहरा मैदान तक करीब 13 किलोमीटर के रोड शो के साथ पार्टी चुनाव अभियान का आगाज किया।

राहुल गांधी जब सोमवार को दोपहर करीब 1 बजे भोपाल पहुंचे तो उनका स्वागत करने के लिए कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया मौजूद थे। रोड शो की शुरुआत से पहले पूजा अर्चना और शंखनाद किया गया। यही नहीं, कांग्रेस कार्यकर्ता गणेश प्रतिमा भी साथ लेकर आए थे। कांग्रेस ने साफ संकेत दे रही है कि पार्टी राज्य में सॉफ्ट हिंदुत्व के ज़रिये आगे बढ़ने की रणनीति अपना रही है। राहुल गांधी के रोड शो से पहले सूबे की राजधानी भोपाल को कांग्रेस ने राहुल गांधी की टीका और अक्षत वाली तस्वीरें वाले पोस्टरों से पाट दिया गया था।

धार्मिक पोस्टर्स का सिलसिला यही नहीं रुका बल्कि एक तस्वीर में वह शिवलिंग पर जल चढ़ाते दिखाई दिए थे, जिसके बैकग्राउंड में कैलाश मानसरोवर की तस्वीर थी। इस तस्वीर के माध्यम से राहुल गांधी को शिवभक्त करार दिया गया है।

राहुल गांधी ने भी अपने रोड की शुरुआत पूजा-अर्चना से की। सॉफ्ट हिंदुत्व की राह पर चुनाव लड़ने और पोस्टरों में अक्षत-टीका पर कांग्रेस ने कहा कि इससे ही शुभ काम की शुरुआत होती है, इसलिए इन्हें पोस्टरों में जगह दी गई है। हालाँकि अभी के सभी पोस्टर्स से कांग्रेस लीडर दिग्विजय सिंह गायब थे और यह भी राजनैतिक गलियारों में चर्चा का विषय बना, पर इससे पहले उन्होंने भी पूरे प्रदेश में नर्मदा यात्रा निकालकर कांग्रेस के हिंदुत्व के रास्ते पर जाने के संकेत दिए थे।

यहाँ आपको यह भी बताते चलें कि पहले राहुल गांधी की कैलाश मानसरोवर यात्रा और फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इंदौर में दाऊदी बोहरा मुस्लिम समुदाय के कार्यक्रम में शामिल होने के लिए सैफी मस्जिद जाने की काफी चर्चा हुई थी। जिसे लेकर अरविन्द केजरीवाल ने ट्वीट करके लिखा कि, राहुल जी मंदिरों में घूम रहे हैं, मोदी जी आजकल मस्जिदों में घूम रहे हैं। राष्ट्र निर्माण मंदिर मस्जिद से नहीं बल्कि लोगों को स्कूल, अस्पताल, सड़कें, बिजली, पानी देने से बनेगा। 21वीं सदी के भारत के मंदिर और मस्जिद स्कूल, उच्च शिक्षण संस्थान और वर्ल्ड क्लास रिसर्च इन्स्टिट्यूट हैं।

Leave a Reply

RSS
Facebook
Google+
http://jantanews.in/congress-on-the-path-of-hindutva-rahul-gandhi-becomes-shiva-devotee-in-election-campaign">
YOUTUBE
YOUTUBE