हमारी ईमानदारी का सबसे बड़ा सबूत यह है कि पीएम मोदी ने सारी जाँच करवा कर देख ली, पर कुछ नहीं मिला

आम आदमी पार्टी (AAP) के राष्ट्रिय संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का कहना है कि केंद्र सरकार ने पिछले साढे़ तीन सालों में उनके हर फैसले की जांच कराई पर उन्हें एक भी गड़बड़ी नहीं मिली और अपने आप में दिल्ली सरकार की ईमानदारी का सबसे बड़ा प्रमाण है।

आम आदमी पार्टी के छठे स्थापना दिवस के अवसर पर पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा कि तीन साल में हमारी सरकार ने जितने भी निर्णय लिए थे, उनसे जुड़ी वे सभी 400 फाइलें मोदी जी ने, हमारे खिलाफ कोई भी गड़बड़ी निकालने के लिए मंगा लीं जिन पर मैंने दस्तखत किए थे। लेकिन कुछ भी नहीं निकला। मुझे ईमानदारी का सर्टिफिकेट प्रधानमंत्री मोदीजी से मिला है। उन्होंने कहा कि इससे बड़ी उपलब्धि और क्या होगी कि जो पिछले ३ इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि उन्हें ईमानदारी का यह प्रमाणपत्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिला है, क्योंकि उन्होंने हर मामले में जांच कराइ, पर एक भी गड़बड़ी नहीं ढूंढ पाए।

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि देश, पार्टी से बड़ा है। अगर कभी पार्टी और देश में से किसी एक को चुनना पड़े तो देश को चुनना, पार्टी को छोड़ देना। उन्होंने आगे कहा कि संविधान दिवस के दिन ही आप का गठन होना महज संयोग मात्र नहीं हो सकता है। बल्कि यह नियति का एक इशारा है कि आज देश में संविधान पर जो खतरा मंडरा रहा है उससे देश को बचाने में कोई और पार्टी सक्षम नहीं है।

अरविंद केजरीवाल ने देश के जनता से सवाल किया कि आज दिल्ली की जनता कहती है कि हमारा मुख्यमंत्री ईमानदार है। मैं देश की जनता से पूछना चाहता हूँ कि क्या आप दिल से कह सकते हैं कि हमारा प्रधानमंत्री ईमानदार है। उन्होंने दिल्ली सरकार के साढे़ तीन साल के कामों को ऐतिहासिक करार दिया और बताया कि गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए मोदीजी ने 12 साल में जितने काम किए थे उससे कहीं ज्यादा काम दिल्ली में आम आदमी पार्टी सरकार ने साढ़े तीन साल में ही कर के दिखा दिए।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जब पहली बार 49 दिन की सरकार चलाई थी, उस सरकार को जनता आज भी याद करती है, उस टाइम पर हमारे पास एन्टी करप्शन ब्रांच भी थी,जिससे अफसर काँपते थे! लेकिन 2015 में चुनाव के बाद मोदीजी ने पैरा-मिलिट्री फ़ोर्स भेजकर हमारी एसीबी पर कब्जा कर दिया।

अरविन्द केजरीवाल ने इशारो-इशारो में भाजपा के राष्ट्रिय अध्यक्ष पर इलज़ाम लगाते हुए कहा कि ‘ऊपर वाले ने भी 67 सीट सोच समझकर ही दी, उसे भी पता था कि ये अमित शाह कुछ ना कुछ तो करेगा इसलिए उसने 67 सीटें थी! इन साढ़े तीन सालों में इन्होंने मेरे, मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन और कैलाश गहलोत के ऊपर भी सीबीआई रेड करवा दी लेकिन इन्हें कुछ नही मिला।’

उन्होंने आगे कहा कि ‘6 साल पहले जब पार्टी बनी थी, जब कई लोगों ने भविष्यवाणी करी थी कि इन सबकी जमानत जब्त होगी, लेकिन पहले चुनाव में ही हमारी सरकार बनी और उस सरकार ने ऐसा ऐतिहासिक काम किया की दिल्ली की जनता ने फिर हमें 67/70 सीटें दी।’

Leave a Reply

RSS
Facebook
YOUTUBE
YOUTUBE